भारत की पहली सुई-मुक्त वैक्सीन को मंजूरी, जानिए बिना सुई के शरीर में कैसे पहुंचती है कोरोना की वैक्सीन

भारत की पहली सुई-मुक्त वैक्सीन को मंजूरी, जानिए बिना सुई के शरीर में कैसे पहुंचती है कोरोना की वैक्सीन

इस टीके को अन्य टीकों की तरह सुई से इंजेक्ट करने की आवश्यकता नहीं है, इसे एक विशेष सुई-मुक्त इंजेक्टर के माध्यम से लोगों की बाहों में इंजेक्ट किया जाता है।

बच्चों में सुइयों के डर को देखते हुए यह सुई रहित टीका निश्चित रूप से टीकाकरण अभियान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

जानिए बिना सुई के शरीर में कैसे जाती है कोरोना की वैक्सीन :-

कोरोनावायरस तांडव के बीच शुक्रवार को सभी देशवासियों के लिए बड़ी खबर आई: ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने स्वदेशी कंपनी Zydus Cadila से तीन खुराक वाली कोरोना वैक्सीन ZyCoV-D को आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी दे दी है।

ZyCoV-D वैक्सीन 12 साल से अधिक उम्र के किसी को भी दी जा सकती है। आपको बता दें कि गुजरात की इस कंपनी ने जुलाई में DCGI से ZyCoV-D के आपातकालीन आवेदन का अनुरोध किया था।

कंपनी ने 50 से अधिक केंद्रों में अपने विशेष टीके का परीक्षण किया है। दुनिया का पहला डीएनए वैक्सीन ZyCoV-डी है जो Zydus Cadila द्वारा विकसित किया गया है।

Zydus Cadila का ZyCoV-D पूरी तरह से सुई मुक्त टीका होगा

भारत में कोरोना वायरस से जारी जंग में इस्तेमाल होने वाला यह छठा वैक्सीन होगा। वर्तमान में देश में सीरम इंस्टीट्यूट से कोविशील्ड, भारत बायोटेक से कोवैक्सीन, रूस से स्पुतनिक वी, अमेरिका से मॉडर्ना और अमेरिका से जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन प्रशासित हैं।

आपको बता दें कि Zydus Cadila की Zykov-D वैक्सीन अपने आप में बेहद खास है क्योंकि यह पूरी तरह से नीडल फ्री होगी। इसका सीधा सा मतलब है कि इस टीके को अन्य टीकों की तरह सुई से इंजेक्ट नहीं करना पड़ता है, बल्कि एक विशेष सुई-मुक्त इंजेक्टर के माध्यम से लोगों की बाहों में इंजेक्ट किया जाता है। बच्चों में सुइयों के डर को देखते हुए यह सुई रहित टीका निश्चित रूप से टीकाकरण अभियान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

इस प्रकार सुई मुक्त इंजेक्शन तकनीक काम करती है

सुई मुक्त इंजेक्शन तकनीक के साथ एक बहुत ही खास इंजेक्टर का उपयोग किया जाता है। इसके तहत बिना सुई के टीके की शीशी को पहले एक सिरिंज में डाला जाता है और आवश्यक मात्रा में डाला जाता है।

जब दवा या टीका सिरिंज में होगा, तो उसे इंजेक्टर में इंजेक्ट किया जाएगा। फिर इसे हाथ की त्वचा के माध्यम से इंजेक्टर पर एक बटन के धक्का पर शरीर के अंदर धकेल दिया जाता है।

बता दें कि सुई रहित इंजेक्टर एक तंत्र द्वारा काम करता है जो एक स्प्रिंग का उपयोग करता है और इसे आवश्यक दबाव के साथ शरीर में पहुंचाता है। इस पूरी प्रक्रिया में व्यक्ति को इंजेक्शन की भनक तक नहीं लगती और काम हो जाता है।

यह भी पढ़ें :–

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *